घायल पक्षी ‘महोख’ ग्राउंड वाटर टैंक से निकाला।

घायल पक्षी ‘महोख’ ग्राउंड वाटर टैंक से निकाला।

बहुत कम लोगों ने ‘महोख‘ (Greater Coucal) को नज़दीक से देखा होगा, अपने बड़े आकार के बावजूद, यह किसी को भी देखकर झाड़ियों में छिप जाता है। यह जमीन में ज्यादातर घनी झाड़ियों में रहता है, झाड़ी के अंदर अपना घोंसला भी बनाता है। यह लाल चमकदार आंखों वाला पक्षी एक कोयल प्रजाति का पक्षी है, यह बहुत ऊंची उड़ान नहीं भर सकता है। दो दिन पहले यह एक अंडर-ग्राउंड पानी की टंकी में गिर गया, जहाँ से इसे बाहर निकाला

बुरी तरह से घायल यह पक्षी ठण्ड से कांप रहा था, क्योंकि यह पूरी तरह से गीला था और बचने के लिए संघर्ष कर रहा था। थोडा उपचार के बाद बाद इसे धूप में बैठा दिया।
जैसे ही थोडा चेतना आती और उर्जा इकठ्ठा कर, उड़ने की कोशिश करता, लेकिन कुछ कदम चलते ही लड़खड़ा कर गिर जाता।

उसी समय, एक चील बहुत नीचे से उड़ने लगी, पता नहीं कि, इसका हाल- चाल लेने आयी थी या इसे अपना शिकार बनाने। (वीडियो में 42 सेकंड में छवि देखें) इसलिए इसे बचाने के लिए, इसे एक कार्डबोर्ड बॉक्स में डाला, इसकी आदत वैसे भी छिपना है।

2 – 3 घंटे आराम करने के बाद, फिर से ठीक होने के बाद, यह पक्षी वहां से उड़ गया।

‘महोख’ पक्षी – ‘ओक’ शब्द थोड़े समय के लिए छोड़ा जाता है। यह एक अन्य शब्द है जिसका उच्चारण कूप-कूप-कूप आदि है, जिसे दो या अधिक कूपों के साथ प्रति सेकंड 6 से 20 बार सुना जाता है। इसका आहार खरपतवार, भुजंग, लार्वा, जंगली चूहा, बिच्छू, गिरगिट, सांप आदि है।

देखें यह विडियो।

विडियो देखें YouTube में

Login AlmoraOnilne.com with Facebook

पोस्ट के अपडेट पाने के लिए अल्मोड़ा ऑनलाइन Whatsapp से जुड़ें

Facebook Comments
Almora Online Desk

About Almora Online Desk