अल्मोड़ा नगर भ्रमण

अल्मोड़ा नगर भ्रमण

व्यस्त दिनचर्या और थकान भरी जीवनशैली के आप अभ्यस्त हो गयें हो, पर कभी आपको लगे कि आपने अपने और अपनों के साथ अच्छा वक़्त बिताना है, तो almora आपके लिए एक उपयुक्त स्थान हो सकता है. ये नगर जहाँ एक और ऐतिहासिक महत्व का है, वही सांस्कृतिक, अध्यात्मिक स्थल होने के साथ साथ एक जाना माना पर्यटक स्थल भी है,

आईये रूबरू होते है इस शहर से, बने रहिये इस सफ़र में मेरे साथ, नमस्कार फ्रेंड्स आपका स्वागत है अल्मोड़ा नगर के इस टूर में…

इस जगह से राईट हैण्ड साइड को डोली डाना गोल्जू मंदिर है जो डेढ़ से दो किलोमीटर के सॉफ्ट ट्रैकिंग के बाद आता है, ​

फ्रेंड्स ये सड़क जाती है धारानौला को, जो यहाँ से लगभग 5 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है, धारानौला से ही चितई, पिथोरागढ़, आदि के लिए बस, टैक्सी इत्यादी मिलती हैं, इस रूट का विडियो हम पहले ही आपके लिए ला चुके हैं, नीचे डिस्क्रिप्शन में आपको उस विडियो का लिंक मिल जायेगा,

हम तिराहे से बायीं और का मार्ग लेकर पहुचे हैं ब्राइट एंड कार्नर, जिसका नाम अब बदल कर विवेकानंद कार्नर हो गया है,. ये स्थान शाम का वक़्त सूर्यास्त के मनलुभावन नज़ारे के साथ शहरवासियों का वक़्त गुजरने के लिए पसंदीदा जगहों में से एक है. सड़क से उप्पर कैफ़े भी है, जहाँ स्नैक्स और चाय कॉफ़ी आदि मिल जाती है,…



अब हम बढ रहे हैं, विवेकनद कार्नर से आगे… अल्मोड़ा आकाशवाणी केंद्र सड़क से नीचे की ओर , रघुनाथ मॉल और मल्टीप्लेक्स…हेमवती नंदन बहुगुणा स्टेडियम, वीपीकेएएस, कुमाऊँ युनिवेर्सिटी का सोबन सिंह जीना कैम्पस, अल्मोड़ा।

पिछले लगभग 50 किलोमीटर वन छेत्र और पहाड़ी घुमावदार रास्तो से गुजरकर, जब आप अल्मोड़ा शहर की सीमा में प्रवेश करते हैं, तब आपको अल्मोड़ा शहर में प्रवेश करते ही अलग सा अहसास होता है

अल्मोड़ा, 16 वीं शताब्दी में कुमाऊं साम्राज्य पर शासन करने वाले चंदवंशीय राजाओं की राजधानी थी। एक कथा के अनुसार यह कहा जाता है कि कौशिका देवी ने शुंभ और निशुंभ नामक दानवों को इसी क्षेत्र में मारा था।

इसे एजुकेशन हब कहें, जिला मुख्यालय कहें, ऐतिहासिक नगर कहें, कला व सांस्कृतिक केंद्र कहें या खुबसूरत हिल स्टेशन कहें… कितना भी कह लें, कितना ही छूट जायेगा..

head पोस्ट ऑफिस, रैमजे इंटर कॉलेज, एडम्स गर्ल्स inter कॉलेज, GIC आदि कुछ ब्रिटिश कालीन इमारतों में से एक हैं

चितई, नंदा देवी मंदिर, रघुनाथ मंदिर, हनुमान मंदिर, मुरली मनोहर मंदिर, भैरब मंदिर, पाताल देवी, कसारदेवी, उल्का देवी, बानरी देवी, बेतालेश्वर, स्याही देवी , जागेश्वर, डोलीडाना आस्था के केन्द्र इस शहर की धरोहर हैं



ये चढाई की और जा रही है सड़क – पलटन बाजार में मिलती है और जहाँ से दाई और almora canttonment को रोड जाती है,

ये बिल्डिंग कभी रीगल सिनेमा हुआ करती थी, ये आर्य समाज मंदिर, इससे आगे अल्मोड़ा head पोस्ट ऑफिस, नीचे की और GIC, यहाँ से नीचे GIC के लिए प्रवेश द्वार और almoda डिस्ट्रिक्ट लाइब्रेरी भी है। आज दिन रविवार का है, रविवार को अल्मोड़ा बाजार का साप्ताहिक अवकाश रहता है, आज शायद कोई भर्ती परीक्षा होगी जिसमें ये युवक शामिल हो कर वापस लौट रहे हैं, ​अभी हम गुजर रहे है चौघानपाटा से, बायीं और गाँधी पार्क, दहिनी हाथ को पालिका बाजार, लोक निर्माण विभाग (PWD) का कार्यालय, अब हम पहुचे वाले है KMOU और रोडवेज बस अड्डे, उप्पर के और SBI के मुख्य शाखा, और उसे उप्पर अल्मोया कचहरी स्ठित है।

राईट हैण्ड को Almora Muncipility/ नगरपालिका का ऑफिस, और ये रही अल्मोड़ा की प्रसिद्द खिम सिंग मोहन सिंह, इसके अलावा अल्मोड़ा के जोगा लाल शाह की बाल मिठाई भी प्रसिद्द है, यहाँ से लेफ्ट हैण्ड को अल्मोड़ा का प्रसिद्द सीडी बाजार जो उप्पर जाकर अल्मोड़ा के मुख्य बाजार – यानी पटाल बाजार पर मिल जाती हैं

​​ये इंडियन आयल का पेट्रोल पंप, इससे आगे एक और पेट्रोल पंप है, भारत पेट्रोलिम का, और ये रोड है लिंक रोड जो नीचे जाकर लोअर माल रोड पर मिल जाती है, यहाँ से उप्पर/ राईट हैण्ड साइड को रैमजे इंटर कॉलेज है, जिसका एंट्रेंस उप्पर चौक बाजार से है, और बायीं ओर लिंक रोड से लगता हुआ GGIC, का नामकरण राजा आनंद सिंह जी जो की कुमाऊं अंतिम चंदवंशीय राजा हुए और जो स्वतंत्रता संग्राम सेनानी भी रहे के नाम पर रखा गया है. जिसे राजा आनंद सिंह बालिका इंटर कॉलेज भी कहते है।

स्क्रिप्ट के साथ डीटेल मे विजुवल्स देखने के लिए देखें विडियो – और विडियो या आर्टिक्ल कैसा लगा, कमेंट करके बताइएगा।

Facebook Comments
328 Shares
Almora Online Editor

About Almora Online Editor

अल्मोड़ा के पर्यटन, संस्कृति का प्रसार, संभावनाओं की तलाश के साथ अल्मोड़ा वासियों को जोड़ने की कोशिश हैं - अल्मोड़ा ऑनलाइन वेबसाइट।